Monday, October 7, 2013

लखीसराय के लाल ने सुनाई लालू को सजा

कार्यालय प्रतिनिधि, लखीसराय : बहुचर्चित चारा घोटाले में पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद एवं डॉ. जगन्नाथ मिश्र समेत 37 आरोपियों को सजा सुनाने वाले सीबीआइ की विशेष कोर्ट, रांची के जज प्रवास कुमार सिंह लखीसराय जिले के निवासी हैं। सिंह सूर्यगढ़ा प्रखंड के अंतर्गत आने वाले पोखरामा गांव के रहने वाले हैं। अपर समाहर्ता राजेश्वरी प्रसाद सिंह के पुत्र प्रवास ने उच्च विद्यालय नरोत्तमपुर, कजरा से नौवीं कक्षा तक की पढ़ाई घोसैठ निवासी तत्कालीन प्रधानाध्यापक वकील सिंह के सानिध्य में की। इसके बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई मुंगेर से पूरी की। 20 मई 1959 में जन्मे प्रवास ने अपनी पढ़ाई पूरी करने बाद 27 नवंबर 1986 को बिहार न्यायिक सेवा में योगदान दिया। इसके बाद वे छपरा, भागलपुर, मधुबनी, बिहार शरीफ, जमशेदपुर, लोहरदगा जिला न्यायालय में एडीजे के रूप में कार्यरत रहे। सीबीआइ के स्पेशल जज के रूप में उन्होंने बहुचर्चित चारा घोटाले में संलिप्त पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद एवं डॉ. जगन्नाथ मिश्र सहित 37 आरोपियों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए तीन अक्टूबर को ऐतिहासिक सजा सुनाई।
Source:- Jagran
Join Lakhisarai Group on Facebook:- https://www.facebook.com/groups/lakhisarai/
Twitter:- info_lakhisarai

Tuesday, September 17, 2013

हमे भी पढ़ाओ

लखीसराय ! बिहार सरकार ने वर्ष 2007 में ‘हमे भी पढ़ाओ’ योजना का क्रियान्वयन किया था। इसके तहत पुलिस को स्लम बस्तियों में रहने वाले गरीब बच्चों का स्कूल में दाखिला कराने की जिम्मेदारी दी गई थी। स्थानीय थाना पुलिस को निदेशित किया गया था कि वे अपने क्षेत्र के स्लम बस्तियों में जाकर लोगों को शिक्षा के प्रति जागरूक करे और नि:सहाय व निर्धन बच्चों का स्कूल में नामांकन कराए। विडंबना यह है कि इस योजना के बारे में अधिकांश पुलिसकर्मियों को जानकारी तक नहीं है।
सूत्रों की मानें तो खानापूर्ति के लिए ग्रामीण क्षेत्रों के थानेदार अपने इलाके के प्राथमिक व मिडिल स्कूल की सांठ-गांठ से वहां नामांकन कराने वाले कुछ बच्चों का दाखिला अपने नाम पर करवा लेते हैं। इसके बाद माहवार आंकड़ा तैयार कर क्राइम मीटिंग में पुलिस कप्तान को सुपुर्द कर देते हैं। हालांकि शहरी क्षेत्र के थानेदार तो खानापूर्ति करने की भी जरूरत नहीं समझते। वे बेखौफ होकर महीने के अंत में अपने प्रतिवेदन में ‘शून्य’ लिखकर जमा कर देते हैं।
पुलिस कप्तान भी आखिर करें तो क्या ? पुलिसिंग जो करवानी है। और अगर, क्राइम मीटिंग में जवाब मांग दिया तो थानेदार कहते हैं - ‘सर, बहुत प्रेशर है। थाने में बल की भी कमी है। अपराधी तो पकड़ा नहीं रहा, बच्चों को कैसे स्कूल पहुंचाएंगे।’ जवाब ऐसा मिलता है कि पुलिस कप्तान भी चुप्पी साध लेते हैं। थानेदारों की मानें तो बल की कमी के कारण ना तो पुलिसिंग हो पाती है और ना ही सामाजिक कार्य। यही वजह है कि लंबित मामलों का निष्पादन तक नहीं हो पा रहा है।

Source:- Ranjeet Kumar

Monday, August 26, 2013

नेशनल हाइवे पर सफर हुआ महंगा, देना पड़ेगा टैक्स

जाप्र., लखीसराय : राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 80 के मोकामा-मुंगेर खण्ड अन्तर्गत पथ पर सफर करना अब महंगा हो गया है। लखीसराय जिला से एनएच 80 से होकर मुंगेर, पटना, भागलपुर जाने वाले वाहन मालिकों को लखीसराय-बड़हिया एनएच 80 पथ पर बालगुदर के पास टॉल शुल्क देना पड़ेगा। भारत सरकार के भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा टॉल शुल्क निर्धारित करने के बाद शुक्रवार को विधिवत रूप से टॉल प्लाजा कार्य करना प्रारंभ कर दिया है। एनएचआई के तकनीकी प्रबंधक अरविन्द प्रसाद वर्मा एवं टॉल प्लाजा के प्रबंधक दिनेश ठाकुर की उपस्थिति में टोल शुल्क वसूली कार्य प्रारंभ किया गया। टेम्पो, बाइक, कृषि कार्य के के लिए ट्रैक्टर को टॉल टैक्स से मुक्त रखा गया है। लखीसराय जिला अन्तर्गत वाणिज्यिक रूप से निबंधित वाहनों के एकल यात्रा शुल्क में 50 फीसद से अधिक की छूट दी गई है। टॉल प्लाजा केंद्र पर डीएवी पब्लिक स्कूल की बसें रोककर भी टॉल टैक्स ली गई। इससे विद्यालय प्रबंधन परेशान है। उधर मोकामा-मुंगेर खंड अन्तर्गत टू लेन सड़क निर्माण करा रही कंपनी की लापरवाही के कारण लखीसराय से मदनी चौकी के बीच कई स्थानों पर निर्माण कार्य अधूरा पड़ा है। इसे देखने की फुर्सत न तो जिला प्रशासन को है न ही निर्माण कंपनी को मतलब है। मेदनी चौकी में नाला निर्माण, फुटपाथ की रेलिंग एवं सड़क चौड़ीकरण का कार्य अधूरा है। वहां पानी टंकी रोड सहित कई संपर्क पथों को एनएच से नहीं जोड़ा गया है। उधर टॉल प्लाजा के संचालक दिनेश ठाकुर के अनुसार क्षेत्रीय व्यक्तियों के निजी, गैर वाणिज्यिक वाहन के लिए मासिक शुल्क की राशि वित्तीय वर्ष 2013-14 के लिए 215 रुपए देय होगी। बशर्ते वे टॉल प्लाजा से 20 किलोमीटर के दायरे में रहते हो। सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क के तहत कार, जीप, वैन या हल्के मोटर यान को एकल यात्रा के लिए 35 रुपए, एक दिन में एक बार आने-जाने के लिए 50 रुपए, मासिक शुल्क 1,120 रुपए तथा जिला अंतर्गत निबंधित वाहनों को 15 रुपए टॉल टैक्स देना पड़ेगा। बस या ट्रक (छह चक्का) 115 रुपए, दस चक्का ट्रक 125 रुपए, 18 चक्का वाहन को 180 रुपए का शुल्क देना पडेगा। जबकि लखीसराय जिला अन्तर्गत निबंधित वाणिज्यिक वाहनों हल्के मिनी बस को 25 रुपए, छह चक्का ट्रक व बस को 55 रुपए, दस चक्का ट्रक को 60 रुपए का शुल्क देना पडे़गा। टॉल प्लाजा शुभारंभ के मौके पर संजय सिंह, चिक्कु सिंह, उमेश प्रसाद सिंह सहित बडी संख्या में स्थानीय प्रबुद्ध ग्रामीण उपस्थित थे।

Source:- Jagran

Sunday, June 23, 2013

पहले प्रयास में आईआईटी में सफल

बड़हिया प्रखंड के गंगासराय पंचायत अंतर्गत लोहरा गांव निवासी विनय प्रकाश शर्मा उर्फ 'रिंकू' ने अपने पहले ही प्रयास में आईआईटी जेईई एडवांस 2013 परीक्षा में सफलता प्राप्त की है। उसे 1299वां रैंक मिला है। इससे परिवार एवं आस पड़ोस में खुशी का लहर फैल गई है। विनय के पिता हरेराम सिंह किसान हैं जबकि माता उषा देवी सरकारी सेवा में नर्स हैं। विनय प्रकाश ने बताया कि वह कोटा में रहकर आईआईटी की प्रवेश परीक्षा के लिए तैयारी करता था। नित्य 12 घंटे तक पढ़ाई करने के बाद नतीजा सामने आया है। उसकी पढ़ाई में हमेशा माता-पिता एवं चाचा मनीष, रजनीश, राजीव कुमार तथा पड़ोस के लोग भी सहयोग करते थे। उसने कहा कि इस कारण उसका उत्साह बढ़ते चल गया। विनय ने पश्चिम बंगाल इंजीनियरिंग में 34वां रैंक तथा बीआईटीएस पिलानी में 450 में 333 अंक लाया है। विनय की तमन्ना है विदेश में पढ़ाई करके भारत में रहकर अपने देश की सेवा करूं। Jagran

Tuesday, November 6, 2012

मौका है, जल्द जुड़वा लें वोटर लिस्ट में नाम

Nov 04, 05:11 pm
जाप्र., लखीसराय : युवा जो 18 साल की उम्र के हो गए हैं उनके लिए अच्छा मौका है, जल्द ही अपना नाम वोटर लिस्ट में जुड़वा लें। युवा व महिला मतदाताओं का नाम जोड़ने के लिए जिला निर्वाचन कार्यालय ने विशेष अभियान चला रखा है। इसके लिए सभी बीएलओ को अधिक से अधिक मतदाताओं का नाम जोड़ने का निर्देश दिया गया है। जिले की मतदाता सूची में पुरूष मतदाता के मुकाबले महिला मतदाताओं के घटते लिंग अनुपात के मद्देनजर आयोग ने प्लस टू विद्यालय एवं महाविद्यालयों में जागरूकता शिविर लगाकर युवाओं व युवतियों को प्रोत्साहित कर वोटर लिस्ट में नाम जोड़ने का निर्देश दे रखा है। इस दिशा में जिला निर्वाचन पदाधिकारी स्तर से आदेश तो जारी किया गया लेकिन जागरूकता की कमी एवं प्रचार प्रसार नहीं होने के कारण युवाओं में नाम जोड़ने के प्रति कोई रूझान देखने को नहीं मिल रहा है। बीएलओ भी अपनी जिम्मेदारी की कागजी खानापूरी कर रहे हैं। हालांकि उप निर्वाचन पदाधिकारी एलेन अरविंद डीन ने बताया कि जिले में चल रहे मतदाता सूची के संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम का जोर युवा और महिला मतदाताओं पर है। उधर अनुमंडल पदाधिकारी विनय कुमार राय ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को महाविद्यालय के प्राचार्यो एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानों को वैसे वोटरों के बीच फार्म का वितरण करने का निर्देश दिया था जिनके नाम वोटर लिस्ट में शामिल नहीं है। लेकिन इस दिशा में न तो विभाग गंभीर हुआ न प्राचार्य। आयोग के आदेशानुसार 10 नवंबर तक ही नाम जोड़ने, संशोधित करने, काटने आदि के लिए फार्म लिए जाएंगे। जिले में अबतक 94 प्रतिशत मतदाताओं का फोटो आच्छादन हो चुका है। रिपोर्ट के अनुसार अबतक 2,032 लोगों के नाम जोड़ने के लिए फार्म छह, 1,129 लोगों के नाम हटाने के लिए फार्म सात एवं 1,007 लोगों ने नाम शुद्ध करने के लिए फार्म आठ भरा है। रिपोर्ट के अनुसार जिले में कुल मतदाताओं की संख्या पांच लाख 82 हजार 714 है जिसमें 3 लाख 15 हजार 760 पुरूष तथा 2 लाख 66 हजार 954 महिला मतदाता हैं। उप निर्वाचन पदाधिकारी एलेन अरविंद डीन के अनुसार जिले में 1,000 पुरूष मतदाता के मुकाबले मात्र 845 महिला मतदाता हैं। महिला मतदाताओं का यह औसत राज्य औसत से भी काफी कम है।
Jagran

मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्य पर प्रशासन हुआ सख्त

Nov 05, 05:09 pm
जाप्र., लखीसराय : राज्य निर्वाचन आयोग के आदेश पर जिले की मतदाता सूची के प्रारूप प्रकाशन के बाद चलाए जा रहे विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम की धीमी रफ्तार को जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। भूमि सुधार उप समाहर्ता सह निर्वाचन निबंधन पदाधिकारी 167 सूर्यगढ़ा रविन्द्र नाथ प्रसाद सिंह ने चानन एवं सूर्यगढ़ा प्रखंड में जब विशेष पुनरीक्षण कार्यो की समीक्षा की तो पाया कि बीडीओ से लेकर बीएलओ तक उदासीन बने हैं। कार्यो के प्रति लापरवाही बरतने के मामले में डीसीएलआर श्री सिंह ने चानन के बीडीओ सहित सूर्यगढ़ा विधानसभा क्षेत्र के एक दर्जन बीएलओ पर कार्रवाई करते हुए स्पष्टीकरण मांगा है। चानन प्रखंड की समीक्षा में पाया कि प्रखंड अंतर्गत 71 मतदान केंद्र हैं। प्रारूप प्रकाशन के समय मतदाताओं की संख्या 61,818 में 5,203 मतदाता का फोटो मतदाता सूची में नहीं है। फोटो आच्छादन के लिए प्रतिदिन 146 फोटो लिया जाना था लेकिन अबतक कुल मात्र 570 फोटो प्राप्त हुए। इस कारण बीडीओ से स्पष्टीकरण पृच्छा है। समीक्षा में डीसीएलआर श्री सिंह ने बूथ नंबर 217 के बीएलओ शिव ज्योति कुमार, बूथ नंबर 239 बीएलओ अविनाश कुमार, बूथ 269 बीएलओ कंचनवाला, बूथ नंबर 273 बीएलओ मुकेश कुमार के कार्यो की समीक्षा की तथा शत-प्रतिशत मतदाता का फोटो प्राप्त करने का निर्देश दिया। जांच क्रम में अभिलेखों का संधारण सही तरीके से नहीं रहने पर डीसीएलआर ने बीडीओ को प्रत्येक मतदान केंद्र पर प्राप्त प्रपत्रों का अलग-अलग अभिलेख संधारित करने का निर्देश दिया। सूर्यगढ़ा प्रखंड की समीक्षा में पाया कि कुल 1,68,641 मतदाता में 8,560 मतदाता ऐसे हैं जिनका फोटो नहीं है। पूर्व आदेश के बावजूद बीएलओ की सुस्ती के कारण अबतक मात्र 1,012 फोटो प्राप्त हुआ जो काफी निराशाजनक है। डीसीएलआर ने बीडीओ को निर्देश दिया कि वैसे मतदान केंद्र जहां 100 से अधिक मतदाताओं का फोटो प्राप्त करना है वहां स्वयं कैमरा के साथ भ्रमण करें एवं फोटोग्राफी करें। डीसीएलआर ने कार्यो के प्रति लापरवाही बरतने वाले बूथ संख्या 33, 36, 40, 41, 42, 43, 44, 51, 61, 175 एवं 202 के बीएलओ से स्पष्टीकरण मांगा है। इसमें से कुछ बीएलओ द्वारा प्रस्तुत स्पष्टीकरण को डीसीएलआर ने खारिज करते हुए बीडीओ को जांच कर रिपोर्ट मांगा है।
Jagran

Tuesday, September 11, 2012

पहाड़ों व जंगलों में मिली बुद्ध की निशानी

लखीसराय : राज्य सरकार के शिक्षा विभाग अंतर्गत संचालित काशी प्रसाद जायसवाल शोध संस्थान बिहार पटना के सहायक निदेशक अनिल कुमार के नेतृत्व में चार सदस्यीय शोध अन्वेषक की टीम ने शनिवार को जिले के धार्मिक, ऐतिहासिक व पौराणिक स्थलों का जायजा लिया। जिला प्रशासन की ओर से वरीय उप समाहर्ता देवेन्द्र कुमार एवं डीपीआरओ प्रमोद कुमार की निगरानी में शोध संस्थान पटना से आए सहायक निदेशक अनिल कुमार के साथ सहायक निदेशक संजीव कुमार सिन्हा, अन्वेषक मानस रंजन मनवंश एवं कमलेश कुमार सबसे पहले सिंगारपुर गांव गए जहां खुदाई में मिले प्राचीन शिवलिंग व विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्ति की जांच की तथा उसकी फोटोग्राफी की। शोध अन्वेषक की टीम ग्रामीणों के साथ बिछवे पहाड़ी पर अंकित बौद्ध लिपि, प्रतिमा एवं सुरंग सहित खुदाई में मिले पत्थरों व ईट का अवलोकन किया तथा डिजीटल सेटेलाइट मशीन से पुरातात्विक महत्वों की जांच की। जांच टीम बिछवे पहाड़ी के उपर खुदाई में निकले कई पुराने ईट को अपने साथ लेते गई। इसके बाद शोध टीम लय, रामसीर एवं उरैन गांव जाकर बौद्ध काल के अवशेषों, शिलापट एवं अन्य कई महत्वपूर्ण स्थलों पर जाकर उसकी जांच कर कैमरे में तस्वीर कैद किया। सहायक निदेशक अनिल कुमार ने बताया कि जिले के जगदंबा मंदिर बड़हिया, अशोकधाम मंदिर, बिछवे पहाड़, उरैन आदि स्थलों पर ऐतिहासिक, पुरातात्विक एवं ज्योग्राफीकल जांच की गई। इसकी रिपोर्ट राज्य सरकार के कला संस्कृति, विरासत समिति पर्यटन विभाग को सौंपा जाएगा। शोध टीम के साथ स्थानीय शोधकर्ता अनिल सिंह, अमरपुर पंचायत के मुखिया गंगा प्रसाद, सरपंच रमाधार सिंह, पूर्व मुखिया विजय शंकर सिंह, लायंस क्लब के सचिव सीताराम सिंह, पूर्व प्रधानाध्यापक कृष्णनंदन सिंह, पूर्व प्रमुख सुजीत कुमार, मुखिया पंकज कुमार आदि कई प्रबुद्ध लोग शामिल थे।
Source:- Jagran